Religion

aaj ka panchang 15 may 2022 today hindi panchang shubh muhurat veshakh vrat shubh muhurt and rahukal-Aaj Ka Panchang (15 मई 2022) का पंचांग: आज है वैशाख पूर्णिमा व्रत, जानिए विजय मुहूर्त का समय और राहुकाल

aaj ka panchang 15 may 2022 today hindi panchang shubh muhurat veshakh vrat shubh muhurt and rahukal-Aaj Ka Panchang (15 मई 2022) का पंचांग: आज है वैशाख पूर्णिमा व्रत, जानिए विजय मुहूर्त का समय और राहुकाल

आज का पंचांग (Aaj Ka Panchang): हिंदू पंचांग को वैदिक पंचांग के नाम से जाना जाता है। पंचांग के माध्यम से समय एवं काल की सटीक गणना की जाती है।आज 15 मई 2022 रविवार का दिन है। वैशाख की शुक्ल पक्ष चतुर्दशी 12:46 PM तक उसके बाद पूर्णिमा तिथि है। सूर्य मेष राशि पर योग-व्यातीपात , करण-वणिज और विष्टि वैशाख मास है। साथ ही आज विजय और अभिजीत मुहूर्त भी है। आज का दिन बहुत ही शुभ फलदायक है। देखिए आज का पंचांग…

आज 15 मई का पंचांग:

हिन्दू मास एवं वर्ष

 शक सम्वत- 1944 शुभकृत

 विक्रम सम्वत- 2079

आज की तिथि:

तिथि- चतुर्दशी 12:45 PM तक उसके बाद पूर्णिमा

आज का नक्षत्र- स्वाती 03:35 PM तक उसके बाद विशाखा

आज का करण- वणिज और विष्टि 

आज का पक्ष- शुक्ल पक्ष

आज सूर्योदय- सूर्यास्त का समय (Sun Time):

सूर्योदय- 5:49 AM 

सूर्यास्त- 6:56 PM

आज चन्द्रमा की राशि (Moon Sign):

चन्द्रमा- तुला राशि पर संचार करेगा।

दिन-रविवार 

माह- वैशाख

व्रत- वैशाख पूर्णिमा व्रत

आज का शुभ मुहूर्त (Today Auspicious Time):

अभिजीत मुहूर्त- 11:56 AM से 12:49 PM

अमृत काल- 07:28 AM से 08:56 AM

ब्रह्म मुहूर्त- 04:13 AM से 05:01 AM

विजय मुहूर्त- 02:08 PM से 03:01 PM

आज का शुभ योग (Aaj Ka Shubh Yoga):

 सर्वार्थ सिद्धि योग- नहीं है

 रवि पुष्य योग – 05:13 AM से 03:35 PM

अभिजीत मुहूर्त-11:56 AM से 12:49 PM

आज का अशुभ समय:

राहुकाल- 05:18 PM से 06:57 PM तक

 कालवेला / अर्द्धयाम- 11:27AM से 12:21PMतक

 दुष्टमुहूर्त- 05:11 PM से 06:04 PM

 यमगण्ड- 12:23 PM से 2:01 PM

 भद्रा- 12:45 PM से 11:17 PM

दिशाशूलः- रविवार को पश्चिम दिशा की यात्रा नहीं करना चाहिए यदि यात्रा करना आवश्यक हो तो घर से पान या घी खाकर निकलें।

नक्षत्र स्वामीः- स्वाति नक्षत्र के स्वामी राहु देव हैं तथा विशाखा नक्षत्र के स्वामी गुरु देव हैं।

तिथि स्वामीः- चतुर्दशी तिथि के स्वामी शिव जी हैं तथा पूर्णिमा तिथि के स्वामी चन्द्र देव हैं।

तिथि का महत्वः- इस तिथि में तिल का तेल नही खाना चाहिए इस तिथि में मांगलिक कार्य करने के लिए वर्जित है।

विशेषः- रविवार को भगवान सूर्य को प्रातः ताम्बे के बर्तन में लाल चन्दन, गुड़ और लाल पुष्प डाल कर अर्घ्य देना चाहिए।

.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Posts

vat savitri vrat date shubh muhurat 30 may 2022 puja samagri pujan vidhi katha-Vat Savitri Vrat 2022: पति की लंबी उम्र के लिए रखा जाता है वट सावित्री व्रत, जानिए तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा- विधि

हिंदू धर्म में वट सावित्री व्रत का विशेष महत्व है […]

vat savitri vrat date shubh muhurat 30 may 2022 puja samagri pujan vidhi katha-Vat Savitri Vrat 2022: पति की लंबी उम्र के लिए रखा जाता है वट सावित्री व्रत, जानिए तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा- विधि

हिंदू धर्म में वट सावित्री व्रत का विशेष महत्व है […]

vat savitri vrat date shubh muhurat 30 may 2022 puja samagri pujan vidhi katha-Vat Savitri Vrat 2022: पति की लंबी उम्र के लिए रखा जाता है वट सावित्री व्रत, जानिए तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा- विधि

हिंदू धर्म में वट सावित्री व्रत का विशेष महत्व है […]

vat savitri vrat date shubh muhurat 30 may 2022 puja samagri pujan vidhi katha-Vat Savitri Vrat 2022: पति की लंबी उम्र के लिए रखा जाता है वट सावित्री व्रत, जानिए तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा- विधि

हिंदू धर्म में वट सावित्री व्रत का विशेष महत्व है […]