Business

Foreign investors pull out Rs 25200 cr from stock market in May so far | शेयर मार्केट में गिरावट की आशंका! विदेशी निवेशकों ने मई में अब तक निकाले 25,200 करोड़ रुपए

ट्रेडस्मार्ट के चेयरमैन विजय सिंघानिया ने कहा कि आने वाले समय में भी विदेशी निवेशकों की बिक्री जारी रहेगी। इसके साथ ही उन्होंने कहा बाजार और बाहर गर्मी की लहरें निवेशकों का थोड़ा और पसीना बहाएंगी। हालांकि लगातार 7वें महीने बिकवाली के बीच अप्रैल के पहले सप्ताह में विदेशी निवेशकों ने भारतीय शेयर बाजार में 7,707 करोड़ रुपये का निवेश किया था। डिपॉजिटरी के आंकड़ों से पता चलता पता चलता है कि 2 से 13 मई के बीच विदेशी निवेशकों ने भारतीय शेयर बाजार से 25,200 करोड़ रुपए की निकासी की है।


लगातार बिक्री क्यों कर रहे हैं विदेशी निवेशक

विदेशी निवेशकों के लगातार बिक्री के पीछे एक्सपर्ट्स रूस-यूक्रेन युद्ध के साथ कच्चे तेल में आई तेजी, विश्व स्तर पर बढ़ती महंगाई और सख्त मौद्रिक नीति को मान रहे हैं। ट्रेडस्मार्ट के चेयरमैन ने भी यही कहा है कि अभी विदेशी निवेशकों का भारतीय शेयर बाजार पैसा निकालना जारी रहेगा।

शेयर मार्केट में गिरावट की आशंका!
विदेशी निवेशकों के लगातार पैसा निकालने का शेयर मार्केट में क्या असर पड़ता है ये आगे आने वाला समय ही बताएगा। कई बार इससे मार्केट में बुरा असर पड़ता है जिससे मार्केट में गिरावट आती हैं लेकिन कई बार इसके उलट कई बार मार्केट में इसका असर नहीं पड़ता है।

.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Posts

Petrol in India costlier than US, China, Pakistan | भारत में पेट्रोल अमेरिका, चीन, पाकिस्तान और श्रीलंका से भी महंगा

क्या है रिपोर्ट में?बैंक ऑफ बड़ौदा इकोनॉमिक रिसर्च की रिपोर्ट […]

Power House: मध्य प्रदेश में लोगों ने घर बैठे बना डाली 5 करोड़ रुपये की बिजली, जानिए क्या है मामला?

Photo:FILE Power Highlights 4900 घरों ने तेज धूप में तपकर […]

open ppf account in name of child and get rs 32 lakh after 15 year | 12वीं पास होने के बाद बच्चे को मिलेंगे 32 लाख रुपए, ऐसे उठाएं इस योजना फायदा

हर महीने जमा करवाने होंगे इतने पैसे पब्लिक प्रोविडेंट फंड […]

Petrol in India costlier than US, China, Pakistan | भारत में पेट्रोल अमेरिका, चीन, पाकिस्तान और श्रीलंका से भी महंगा

क्या है रिपोर्ट में?बैंक ऑफ बड़ौदा इकोनॉमिक रिसर्च की रिपोर्ट […]